यह महिलाओं के गौरव का त्योहार है और देश के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा: मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे

महिला आरक्षण बिल: 
लोकसभा के बाद राज्यसभा ने भी महिलाओं को उनका सम्मान दिलाने वाला ‘नारी शक्ति वंदन विधेयक’ पारित कर दिया. इस मौके पर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के सरकारी आवास वर्षा ने अलग अंदाज में इस फैसले का स्वागत किया. इसके लिए शिव सेना महिला गठबंधन ने गणपति बप्पा की विशेष आरती कर भगवान का शुक्रिया अदा किया.

इस आरती में शिवसेना महिला अघाड़ी की 100 महिला पदाधिकारी शामिल हुईं. उनके साथ गणपति बप्पा की आरती कर इस सपने को साकार करने के लिए भगवान का शुक्रिया अदा किया गया. हमने माननीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को भी धन्यवाद दिया जिन्होंने इसके लिए विशेष प्रयास किए और सफलता और लंबे जीवन के लिए प्रार्थना की.

इस अवसर पर मुख्यमंत्री की पुत्रवधू श्रीमती वृषाली श्रीकांत शिंदे, शिवसेना प्रवक्ता श्रीमती शीतल म्हात्रे, ठाणे जिला महिला अघाड़ी संघटिका श्रीमती मीनाक्षी शिंदे और मुंबई, ठाणे और नवी मुंबई से शिवसेना की सौ से अधिक महिला पदाधिकारी उपस्थित थीं.

नारी शक्ति बिल राज्यसभा में पास हो गया, महिलाओं के लिए गौरव का क्षण – मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे

महिला आरक्षण बिल
महिला आरक्षण बिल

मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साहसिक फैसले का स्वागत किया
महिलाओं को आरक्षण देने वाला नारी शक्ति बिल राज्यसभा में सर्वसम्मति से पारित हो गया. मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने इस विधेयक का स्वागत करते हुए कहा कि यह क्षण महिलाओं के लिए गौरव का क्षण है और देश के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा.

इस मौके पर मुख्यमंत्री शिंदे ने कहा कि आज महिलाएं विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्धियां हासिल कर रही हैं. यह कानून उन्हें राजनीतिक क्षेत्र में नेतृत्व करने का अवसर देगा. यह फैसला देश के लिए मील का पत्थर साबित होगा. यह निर्णय देश के लोकप्रिय प्रधानमंत्री मोदी जी की दूरदर्शिता एवं साहसिक निर्णय क्षमता के कारण संभव हो सका है. इस बिल के पारित होने के लिए प्रधानमंत्री मोदी को बधाई.

हमारी सरकार ने प्रधानमंत्री मोदी की प्रेरणा से नमो महिला सशक्तिकरण अभियान को लागू करने का निर्णय लिया है. इससे महिलाओं को विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ मिलेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!